शिवपाल और अखिलेश की लखनऊ में 1 घंटे मुलाकात, आदित्य को पार्टी में मिल सकती अहम जिम्मेदारी

शिवपाल और अखिलेश की लखनऊ में 1 घंटे मुलाकात, आदित्य को पार्टी में मिल सकती अहम जिम्मेदारी

सपा प्रमुख अखिलेश यादव सोमवार को अचानक चाचा शिवपाल यादव से मिलने उनके लखनऊ आवास पहुंचे। बंद कमरे में एक घंटा 15 मिनट तक मुलाकात हुई। सूत्रों के मुताबिक, मीटिंग में यूपी की राजनैतिक गतिविधियों के साथ ही संगठन विस्तार पर चर्चा हुई। साथ ही शिवपाल के बेटे आदित्य यादव को पार्टी में अहम पद देने पर भी बात हुई।

अखिलेश ने बाहर आकर मीडिया से बात नहीं की। वह काफिले के साथ सीधे अपने आवास चले गए। मैनपुरी लोकसभा उप-चुनाव के बाद दोनों नेताओं की लखनऊ में यह पहली मुलाकात है। हालांकि अभी तक इसको लेकर कोई आधिकारिक बयान जारी नहीं हुआ है। लेकिन मुलाकात के बाद चर्चाओं का दौर शुरू हो गया है। सूत्रों की मानें तो अखिलेश चाचा शिवपाल को किसी भी स्थिति में नाराज नहीं करना चाहते हैं।

ग्राउंड लेवल पर काम करेगी पार्टी

पार्टी से जुड़े एक कार्यकर्ता के मुताबिक, पार्टी के पदाधिकारी सिर्फ वर्ग विशेष ही नहीं, हर जाति के लोगों से मिलकर ग्राउंड लेवल पर काम कर रही है। वोट बैंक को बढ़ाने के लिए हर वर्ग और जाति को जोड़ने की रणनीति पर काम कर रही है।

कार्यकर्ता के मुताबिक, पार्टी को शिवपाल के राजनैतिक अनुभव और उनकी यादव बेल्ट में पकड़ का फायदा मिलेगा। इसके लिए यादव बाहुल्य सीट इटावा, मैनपुरी, एटा, फिरोजाबाद, औरैया, फर्रुखाबाद और कन्नौज के लिए अलग से रणनीति तैयार की जा रही है। वहीं आजमगढ़, रामपुर, बिजनौर, गाजीपुर और पश्चिमी यूपी के लिए अलग रणनीति तैयार की जा रही है।

2017 से चल रहा था विवाद

बता दें, विधानसभा चुनाव 2017 से पहले यादव परिवार में अलगाव की खबरें आई थीं। उस दौरान शिवपाल यादव ने सपा से अलग होकर अपना अलग दल बनाया था। उन्होंने 2017 विधानसभा चुनाव और 2019 का लोकसभा चुनाव अपने दम पर लड़ा था। लेकिन परिणाम मन मुताबिक नहीं आए थे। 2022 विधानसभा चुनाव अखिलेश और शिवपाल साथ लड़े, लेकिन परिणाम वही रहे थे। चुनावों के बाद चाचा-भतीजे के बीच तल्खियां बढ़ती गई।

यहां तक कि अखिलेश ने पत्र जारी कर कहा था, शिवपाल को जहां सम्मान मिले वहां चले जाएं। इस पर शिवपाल ने भी जवाब दिया था। उन्होंने कहा कि वह तो हमेशा से स्वतंत्र रहे हैं। लेकिन सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव के निधन के बाद दोनों के बीच दूरियां कम हो गईं। अखिलेश भी सपा को एकजुट करने की कवायद शुरू की।

अखिलेश-डिंपल ने चाचा के घर जाकर लिया था आशीर्वाद

इसी कड़ी में चुनाव के दौरान अखिलेश ने डिंपल के साथ शिवपाल के आवास पर जाकर मुलाकात की। इसके बाद सपा ने स्टार प्रचारकों में शिवपाल का नाम शामिल किया। फिर अखिलेश ने चुनावी मंच पर चाचा शिवपाल के पैर छुए। शिवपाल भी बहू डिंपल के लिए खूब रैलियां की। इससे धड़ों में बंटे समर्थकों ने एकजुट होकर वोटिंग की।

इसी का नतीजा रहा कि मैनपुरी लोकसभा चुनाव में सपा ने रिकॉर्ड जीत हासिल की। डिंपल ने भाजपा के रघुराज शाक्य को 2,88,461 वोटों हरा दिया। डिंपल के जीतने के बाद अखिलेश ने प्रगतिशील समाजवादी पार्टी का गठन कर चुके शिवपाल को सपा का झंडा देकर उन्हें अपनी पार्टी में शामिल कराया था।

Leave a Reply

Required fields are marked *