सपा के तरकश के तीर से उन्ही का गढ़ भेदने की रणनीति बना रही बीजेपी

सपा के तरकश के तीर से उन्ही का गढ़ भेदने की रणनीति बना रही बीजेपी


लोकसभा उपचुनाव में भाजपा ने रघुराज शाक्य को बनाया उम्मीदवार, प्रसपा सुप्रीमो शिवपाल के हैं करीबी भाजपा ने मैनपुरी लोकसभा सीट से रघुराज सिंह शाक्य को प्रत्याशी घोषित किया है। शाक्य इटावा के रहने वाले हैं। वह समाजवादी पार्टी में रहते हुए दो मर्तबा सांसद और एक दफा विधायक रह चुके हैं। मैनपुरी लोकसभा सीट पर उपचुनाव में समाजवादी पार्टी की प्रत्याशी डिंपल यादव के सामने भाजपा ने सपा के सिपाही रहे रघुराज शाक्य को अपना प्रत्याशी घोषित कर दिया है। इस चुनाव में कांटे की टक्कर देने के लिए भाजपा ने सपा से सांसद व विधायक रह चुके और शिवपाल सिंह यादव के करीबी माने जाने वाले रघुराज शाक्य को खास रणनीति के तहत टिकट दी है।

रघुराज शाक्य इटावा जिले के मूल निवासी हैं और माना जा रहा है कि मैनपुरी सीट पर शाक्य वोटों का ध्रुवीकरण करने के लिए भाजपा ने ये फैसला लिया है। रघुराज शाक्य को शिवपाल सिंह यादव का बेहद करीबी माना जाता है। वह प्रसपा के प्रदेश उपाध्यक्ष के पद पर रह चुके हैं। शाक्य 1999 और 2004 में समाजवादी पार्टी के टिकट पर सांसद चुने गए थे। उन्होंने 2012 में सपा के टिकट पर इटावा सदर सीट से विधानसभा का चुनाव भी जीता था। 27 जनवरी 2017 को रघुराज शाक्य ने समाजवादी पार्टी से इस्तीफा दे दिया था। इसके बाद वे शिवपाल सिंह यादव से जुड़ गए। शिवपाल यादव ने उन्हें अपनी पार्टी में प्रदेश उपाध्यक्ष की जिम्मेदारी सौंपी। वहीं 2022 के विधानसभा चुनाव में रघुराज शाक्य ने सपा-प्रसपा गठबंधन से इटावा सदर सीट से दावेदारी की थी।

सर्वेश शाक्य को टिकट दिए जाने से खफा होकर उन्होंने भाजपा का दामन थाम लिया था। रघुराज को टिकट देने के पीछे की रणनीति मैनपुरी लोकसभा सीट पर भाजपा ने जातिगत आंकड़ों को साधने की कोशिश की है। इस सीट पर यादव के बाद शाक्य जाति के मतदाताओं की संख्या सबसे अधिक है।

रघुराज सिंह शाक्य इटावा के जसवंतनगर नगर के मूल निवासी है। लोकसभा क्षेत्र की जसवंत नगर विधानसभा सीट के मतदाताओं में सेंध लगाने की भी कोशिश की है। जसवंत नगर से शिवपाल सिंह यादव विधायक हैं और भाजपा को उम्मीद है कि रघुराज को उनका साइलेंट सपोर्ट मिल सकता है। रघुराज सिंह शाक्य लंबे समय सपा से जुड़े रहे। वह शिवपाल सिंह यादव के बेहद करीबी हैं। शिवपाल सिंह के अलग होने पर उन्होंने भी सपा छोड़ दी थी। माना जाता है कि शिवपाल गुट आज भी उनके साथ है।

वहीं, रामपुर और खतौली विधानसभा सीटों पर हो रहे उपचुनाव के लिए भी भाजपा ने उम्मीदवार घोषित किए हैं। हेट स्पीच मामले में कोर्ट से सजा पाए आजम खां की विधानसभा सदस्यता खारिज होने से खाली हुई रामपुर सदर सीट पर भाजपा ने आकाश सक्सेना को टिकट दिया है। वहीं, हत्या के मामले में दोषी करार दिए जाने से विक्रम सैनी की विधानसभा सदस्यता निरस्त होने से रिक्त हुई खतौली सीट पर भाजपा ने राजकुमार सैनी को प्रत्याशी बनाया है।

(बृजेश कबीर)



 धन्यवाद
Brijeshkabeerdlp@gmail.com, 15 November 2022

Leave a Reply

Required fields are marked *