गुढ़ा बोले- परसादीलालजी परिस्थितियों के कांग्रेसी: कहा- हालात पक्ष में न हों तो वे कांग्रेस में नहीं रहते

गुढ़ा बोले- परसादीलालजी परिस्थितियों के कांग्रेसी: कहा- हालात पक्ष में न हों तो वे कांग्रेस में नहीं रहते

प्रदेश में सियासी उठापटक का दौर जारी है। कांग्रेस के मंत्रियों के बीच जुबानी जंग चल रही है। मुद्दे अलग-अलग हैं। वरिष्ठ कांग्रेसी नेता आचार्य प्रमोद कृष्णम ने नए सवेरे की बात छेड़कर सीएम फेस के विवाद को हवा दे दी थी। अब चिकित्सा मंत्री परसादी लाल मीणा व राज्यमंत्री राजेंद्र गुढ़ा की बयानबाजी सामने आई है।

दरअसल, दो दिन पहले चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री परसादी लाल मीणा ने दौसा के लालसोट में राजेंद्र गुढा पर निशाना साधा था। कहा था- जिसको कांग्रेस में नहीं रहना वही स्टेटमेंट दे रहे हैं। इसके बाद रविवार को दौसा में राजेंद्र गुढा ने चिकित्सा मंत्री के गृह जिले में पहुंचकर उन पर पलटवार किया।

दौसा डाक बंगले में मंत्री गुढ़ा ने कहा कि परसादीलालजी परिस्थितियों के कांग्रेसी हैं। हालात पक्ष में न हों तो वे कांग्रेस में नहीं रहते। ऐसा कई बार हुआ है। गुढ़ा ने 2008 का उदाहरण दिया।

साथ ही गुढ़ा ने यहा भी कहा कि वो मेरे काफी नजदीक हैं, मेरे झुंझुनू जिले के प्रभारी भी रहे हैं। मैं भी उनके दौसा जिले का प्रभारी मंत्री रहा हूं, लेकिन वे परिस्थितियों के कांग्रेसी हैं। पिछली बार कांग्रेस सरकार में हम दोनों साथ में मंत्री थे, तब वे कहां से लड़े थे सबको पता है। परसादीलाल और मैं तो एक जैसे ही नेता हैं।

आचार्य प्रमोद हाईकमान के नजदीक, उनका बयान परिपूर्ण

वहीं कांग्रेस नेता आचार्य प्रमोद कृष्णम द्वारा जयपुर में दिए गए बयान पर राजेंद्र गुढ़ा ने सहमति जताते हुए कहा आचार्य प्रमोद कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता हैं, वे हाईकमान के नजदीक भी हैं। ऐसे में उनका कहना परिपूर्ण है। राजस्थान में सचिन पायलट को सीएम बनाने के सवाल पर गुढा ने कहा कि इस बारे में कई बार बहुत कुछ बोला और लिखा भी जा चुका है।

शनिवार को जयपुर में आचार्य प्रमोद ने कहा था कि राजस्थान के बारे में फैसला लिखा जा चुका है, सिर्फ पढ़ना बाकी है। इसके कई सियासी मायने निकाले जा रहे हैं।

सुखाड़िया 37 और दिग्विजय 46 की उम्र में बन गए थे CM

गुढ़ा ने मुख्यमंत्री का नाम लिए बिना उन्हें उम्रदराज बताते हुए कहा मोहनलाल सुखाड़िया 37 वर्ष की आयु में मुख्यमंत्री बन गए थे तो वहीं दिग्विजय सिंह ने 46 साल की उम्र में सीएम की कुर्सी संभाली थी। शरद पवार 36 साल की उम्र में मुख्यमंत्री बने थे, प्रफुल्ल कुमार महंत 32 साल की आयु में असम के सीएम बन गए थे। लेकिन अब आलाकमान जो भी फैसला करेगा वह सबको मान्य होगा यह कांग्रेस की परंपरा रही है।

वक्त बताएगा किसके MLA एक गाड़ी में आएंगे - मीणा

इस दौरान कृषि विपणन राज्य मंत्री मुरारीलाल मीणा ने कहा ना तो मुझे इस बारे में ज्यादा कोई जानकारी है और ना ही मैं कोई रुचि रखता हूं मैं तो यह कहना चाहता हूं कि हाईकमान जो भी फैसला करेगा वह हम सबको मान्य होगा।

गहलोत या पायलट के सीएम के सवाल पर मीणा ने कहा हम सब एकजुट रहेंगे तो सरकार हमारी रिपीट होगी। वहीं विधानसभा चुनाव में एक गाड़ी में कांग्रेस के विधायक आने के सवाल पर कहा चुनाव होंगे और परिणाम आएंगे तब सबके सामने होगा किस के विधायक एक गाड़ी में आते हैं।

गुरूवार को यह बोले थे चिकित्सा मंत्री परसादीलाल

राज्य सरकार के चिकित्सा मंत्री परसादी लाल मीणा ने गुरुवार को लालसोट में एक समारोह के दौरान कहा था कि जिसको कांग्रेस में नहीं रहना वही स्टेटमेंट दे रहा है। मंत्री ने कहा था कि जो चल रहा है वह ठीक नहीं है।

हाईकमान ने पहले ही कह दिया कि स्टेटमेंट बंद करो, संगठन महासचिव ने सलाह दी है, जिसके बावजूद भी जो कांग्रेस में नहीं रहना चाहते वही स्टेटमेंट दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि स्टेटमेंट देना गंभीर बात है जब हाईकमान ने मना कर दिया तो स्टेटमेंट नहीं देना चाहिए।

यह भी पढ़ें-

राजस्थान का फैसला लिखा जा चुका है :प्रियंका के करीबी आचार्य प्रमोद बोले- सिर्फ सुनाना बाकी, जल्द अच्छा सवेरा देखने को मिलेगा

प्रियंका गांधी के नजदीकी कांग्रेस नेता आचार्य प्रमोद कृष्णम ने कहा- राजस्थान को लेकर कांग्रेस हाईकमान बहुत जल्द बड़ा फैसला करने वाला है। फैसला लिखा जा चुका है, सिर्फ सुनाना बाकी है। यह फैसला राजस्थान की जनता की भावनाओं के हिसाब से होगा। कांग्रेस का हर MLA हाईकमान के फैसले के साथ खड़ा है

Leave a Reply

Required fields are marked *