गहलोत बोले- सावरकर ने 9 बार अंग्रेजों से माफी मांगी:कहा- नेहरू ने बांध बनाया तो जनसंघ ने अफवाह फैला

गहलोत बोले- सावरकर ने 9 बार अंग्रेजों से माफी मांगी:कहा- नेहरू ने बांध बनाया तो जनसंघ ने अफवाह फैला

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बीजेपी और केंद्र सरकार पर पंडित नेहरू की छवि खराब करने का आरोप लगाते हुए निशाना साधा है। गहलोत ने सावरकर के आजादी में योगदान पर सवाल उठाए हैं। गहलोत ने क​हा- बीजपी वाले सावरकर का नाम ले रहे हैं। सावरकर ने तो जेल होते ही एक साल के अंदर अंग्रेजों से नौ बार माफी मांगी थी। जब विश्व युद्ध हुआ तो अंग्रेजों के लिए भर्ती करवाई। ये क्या मुकाबला करेंगे पंडित नेहरू का। देश के लिए नेहरू 9 साल तक जेल में रहे। दुभार्ग्य है कि पूरे देश के अंदर धर्म के नाम पर एक ढांचा बन गया। धर्म के नाम पर राजनीति करना सबसे आसान होता है। गहलोत रामनिवास बाग में पंडित जवाहरलाल नेहरू की जयंती पर सांकेतिक भारत जोड़ो यात्रा के कार्यक्रम में बोल रहे थे।

गहलोत ने कहा- बीजेपी-आरएसएस वाले धम्र के नाम पर गुमराह कर रहे हैं। ये फासिस्ट ताकतें लोगों को गुमराह कर रही हैं। सोची समझी साजिश के तहत देशवासियों को गुमराह किया जा रहा है। पंडित नेहरू के सरदार पटेल और सुभाष चंद्र बोस के साथ बहुत अच्छे संबंध थे, लेकिन इन्होंने नेहरू की छवि खराब करने के लिए अफवाहें फैलाईं। आजादी की 75वीं वर्षगांठ के समारोह से नेहरू का नाम ही गायब कर दिया। नेहरू के योगदान और उनके नाम को मिटाने का षडयंत्र किया जा रहा है।

भाखड़ा बांध बनवाया तो जनसंघ ने कहा था पानी की ताकत निकाल लेगा नेहरू

गहलोत ने कहा- बीजेपी से पहले जनसंघ हुआ करता था। राजस्थान में भैरोसिंह शेखावत जनसंघ के नेता हुआ करते थे। जनसंघ के आठ मेंबर जीतकर आते थे, उस वक्त जनसंघ में कोई दम नहीं था। पंडित नेहरू ने जब भाखड़ा बांध बनवाया तो जनसंघ वालों ने भारी अफवाहें फैलाई। जनसंघ वालों ने उस वक्त कहा कि पंउित नेहरू का दिमाग खराब हो गया। यह पानी में से बिजली निकाल लेगा, पानी में से बिजली बनाकर उसकी ताकत निकाल लेगा और उसके बाद उसे सिंचाई के लिए देगा। ताकत निकाले हुए पानी से सिंचाई होगी तो वह अनाज किस काम का? ताकत निकला हुआ पानी खेतों में जाएगा वह किस काम का। इस तरह के लोग हैं ये ।

गहलोत ने कहा- कुछ साल पहले मैंने भाखड़ा बांध पर जनसंघ वालों की फैलाई गई अफवाहों का जिक्र किया तो बीजेपी वालों ने उसे आगे पीछे से काटकर मेरी कही गई बातें बताकर वायरल कर दिया। मुझे भी तत्काल पूरा वीडियो वायरल करवाना पड़ा।

केंद्र सरकार को विपक्ष से नफरत, इनके जेहन में नफरत

गहलोत ने कहा कि केंद्र सरकार में बैठे लोग आलाचेना बदर्सश्त नहीं करतें आलाचेना करने वालों को ये देशद्रोही करार दे देते हैं। कोई मेरी आलोचना करता है तो मुझे खुशी ​होती है, आलोचना तथ्यों पर होनी चाहिए। मेरे कल भी जोधपुर में प्रोग्राम थे, हमने सब जगह बीजेपी के जनप्रतिनिधियों के भी नाम लिखवाए थे। बीजेपी, केंद्र की सत्ता में बैठे लोग विपक्ष से नफरत करते हैं। इनके जेहन में जहर भरा हुआ है। इनके संस्कार ही ऐसे हैं।

देश को लूट रहे हैं

गहलोत ने कहा- बीजेपी के ये लोग चाल चरित्र ओर चेहरे की बात करते थे। आज इनकी चाल बिगड़ चुकी, चरित्र बिगड़ चुका और असली चेहरा सामने आ चुका है। इतना भयंकर करप्शन कर रहे हैं, ये देश को लूट रहे हैं। सुप्रीम कोर्ट सुनवाई नहीं कर रहा हैं पेगासस से जासूसी करवाइ्र जा रही है, जासूसी से बड़ा कोई क्राइम नहीं होसकता। पेगासस की अब तीन साल बाद सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई शुरू की है।

राहुल गांधी की यात्रा ने बीजेपी को चिंता में डाला

गहलोत ने कहा- गुजरात में पहले ये माहौल बना रहे थे कि इनसे बड़ा कोई राष्ट्रभक्त नहीं है, लेकिन अब इनकी पोल खुल गई है। जनता समझ गई है। राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा ने बीजेपी को चिंता में डाल दिया है। राहुल गांधी की यात्रा का मैसेज हर गांव ढाणी तक पहुंच चुका है। यात्रा का मुख्य मुद्दा देश में बढ़ती महंगाई, बेरोजगारी का मुद्दा है। देशवासियों के मुददे को लेकर राहुल गांधी यात्रा पर निकले हैं।

नेहरू ने ही रखी देश के विकास की बुनियाद

गहलोत ने कहा- पंडित नेहरू का इतिहास पढेंगे तो आप पाएंगे कि उन्होंने उस वक्त दूर दृष्टि रखी, नेहरू ने देश के विकास की बुनियाद रखी, उसीके बूते आज देश अपने दम पर खड़ा है। नेहरू ने बड़े बड़े कल कारखाने और बांध बनवाए। आईआईटी, आईआईएम सहित विश्व स्तरीय संस्थाएं खड़ी ​कीं।

ये भी पढ़ें

CM से बोले हरीश- बुधवार को फिर से कैबिनेट बुलाओ:OBC को लेकर फैसला नहीं होने से नाराज हैं कांग्रेस MLA हरीश चौधरी

ओबीसी आरक्षण को लेकर अपनी ही सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल चुके पंजाब कांग्रेस प्रभारी हरीश चौधरी ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से मांग की है कि आने वाले बुधवार को इस मुद्दे पर फिर से कैबिनेट की बैठक बुलाकर हल निकाला जाए। पिछली कैबिनेट की मीटिंग में ओबीसी आरक्षण में विसंगति दूर करने के प्रस्ताव को डेफर कर दिया था।

Leave a Reply

Required fields are marked *