New Delhi: 6.6 तीव्रता वाले Earthquake से Nepal में 6 मरे, उत्तर भारत में भी झटकों से दहशत

New Delhi: 6.6 तीव्रता वाले Earthquake से Nepal में 6 मरे, उत्तर भारत में भी झटकों से दहशत

नेपाल: आए 6.6 तीव्रता के शक्तिशाली भूकंप से छह लोगों की मौत हो गई है, जबकि पांच अन्य लोग घायल हो गए हैं। इस भूकंप के झटके उत्तर भारत में भी महसूस किये गये हालांकि भारत में किसी प्रकार के नुकसान की कोई खबर नहीं है। उधर, नेपाल के राष्ट्रीय भूकंप निगरानी केंद्र के अनुसार, नेपाल में देर रात दो बजकर 12 मिनट पर 6.6 तीव्रता का भूकंप का झटका महसूस किया गया। इसका केंद्र डोटी जिले में था। नेपाल के गृह मंत्रालय के प्रवक्ता फणींद्र पोखरेल ने बताया कि भूकंप से छह लोगों की मौत हो गई। फणींद्र पोखरेल ने बताया कि गंभीर रूप से घायल पांच लोगों को डोटी के जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। नेपाल में आये भूकंप में एक पुलिस चौकी और आठ मकानों के ढहने की सूचना है। डोटी जिले के पुलिस उपाधीक्षक भोला भट्टा ने बताया कि भूकंप के दौरान कई मकान क्षतिग्रस्त हुए और उसके मलबे में दबने से लोगों की मौत हुई है। नेपाल की सेना और पुलिस राहत एवं बचाव अभियान में जुटे हुए हैं।


नेपाल के प्रधानमंत्री शेर बहादुर देउबा देर रात जब भूकंप आया तो पश्चिमी नेपाल में मौजूद थे। वह भूकंप के केंद्र से 160 किलोमीटर दक्षिण में धनगढ़ी जिले में चुनावी रैलियों के लिए गए हुए हैं। फणींद्र पोखरेल के अनुसार, भूकंप के झटके धनगढ़ी में भी महसूस किए गए। हालांकि प्रधानमंत्री सुरक्षित हैं। नेपाली सेना के प्रवक्ता नारायण सिलवाल के अनुसार, तीन लोग लापता हैं और संदेह है कि पूर्वी चौकी में मकान ढहने के कारण वे मलबे में फंस गए हैं। उन्होंने बताया कि सेना ने लापता लोगों की तलाश शुरू कर दी है। नेपाल में पड़ोसी धनगढ़ी और कैलाली जिलों में भी झटके महसूस किए गए। इससे पहले पश्चिमी नेपाल में भूकंप के दो झटके महसूस किए गए। मंगलवार रात नौ बजकर सात मिनट पर 5.7 तीव्रता का और इसके कुछ देर बाद रात नौ बजकर 56 मिनट पर 4.1 तीव्रता का भूकंप का झटका महसूस हुआ।


भूकंप के झटके उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, दिल्ली और गुरुग्राम और गाजियाबाद सहित पूरे उत्तर भारत में भी महसूस किए गए। भारत के राष्ट्रीय भूकंप विज्ञान केन्द्र एनसीएस के अनुसार, देर रात एक बजकर 57 मिनट पर 6.3 तीव्रता का भूकंप आया, जिसका केंद्र उत्तराखंड के पिथौरागढ़ से लगभग 90 किलोमीटर पूर्व-दक्षिण पूर्व में नेपाल में था। उत्तराखंड में कुछ घंटों के अंतराल में दो बार भूकंप के झटके महसूस किए गए, जिससे डर कर लोग घरों से बाहर निकल आए। भूकंप के तेज झटके से लोग अचानक गहरी नींद से जागे और अनहोनी की आशंका से घरों से बाहर भागे। लोग अभी इस झटके से उबर भी नहीं पाए थे कि बुधवार सुबह छह बजकर 27 मिनट पर एक बार फिर भूकंप से धरती डोलने से लोग सहम गए। भूकंप विज्ञान केंद्र के मुताबिक, इस बार भूकंप का केंद्र भारत—नेपाल सीमा पर उत्तराखंड का पिथौरागढ़ था जिसकी तीव्रता रिक्टर पैमाने पर 4.3 मापी गयी। भूकंप से फिलहाल प्रदेश में जानमाल के नुकसान की कोई सूचना नहीं है। उधर, दिल्ली-एनसीआर में भी लोग रात दो बजे के आसपास भूकंप आने पर घरों से बाहर निकल आये।

Leave a Reply

Required fields are marked *