महारानी की मौत के बाद महाराजा चार्ल्स तृतीय पहले सार्वजनिक कार्यक्रम में हुए शामिल

महारानी की मौत के बाद महाराजा चार्ल्स तृतीय पहले सार्वजनिक कार्यक्रम में हुए शामिल

महारानी एलिजाबेथ द्वितीय की याद में शाही शोक की अवधि समाप्त होने के बाद से महाराजा चार्ल्स तृतीय और उनकी पत्नी कैमिला अपने पहले संयुक्त सार्वजनिक कार्यक्रम में शामिल होने सोमवार को स्कॉटलैंड पहुंचे। एडिनबरा के उत्तर में फिफे के डनफर्मलाइन की सड़कों पर नए महाराजा की एक झलक पाने की उम्मीद में बड़ी संख्या में लोग एकत्र हो गए। यात्रा के दौरान किल्ट घुटनों तक की स्थानीय परंपरागत पोशाक पहने चार्ल्स ने स्कॉटलैंड की प्रथम मंत्री निकोला स्टुर्जन और अन्य नेताओं का अभिवादन स्वीकार करने के बाद शुभचिंतकों के साथ हाथ मिलाया।शाही दंपति ने डनफर्मलाइन को औपचारिक रूप से शहर का दर्जा देने के लिए यहां का दौरा किया। यह शहर एक अन्य महाराजा चार्ल्स प्रथम का जन्म स्थान है। उन्होंने 17वीं शताब्दी में अपनी हत्या से पहले राजगद्दी संभाली थी और स्कॉटलैंड में जन्मे आखिरी ब्रिटिश महाराजा थे। डनफर्मलाइन उन शहरों में से एक है जिन्होंने एलिजाबेथ के राजगद्दी पर 70 साल पूरे होने के अवसर पर प्लेटिनम जुबली समारोह के हिस्से के रूप में शहर का दर्जा हासिल किया था।महाराजा और उनकी पत्नी ब्रिटिश भारतीयों, पाकिस्तानियों और कई अन्य लोगों से मिलेंगे तथा ब्रिटेन में उनके द्वारा किए गए योगदान के लिए कृतज्ञता व्यक्त करेंगे। स्कॉटलैंड के बाल्मोरल कैसल में आठ सितंबर को अपनी मां एलिजाबेथ के निधन के तत्काल बाद चार्ल्स शासक के तौर पर संप्रभु हो गए थे। ब्रिटेन में 19 सितंबर को महारानी के अंतिम संस्कार के बाद 10 दिनों का राष्ट्रीय शोक रखा गया था जबकि शाही परिवार ने शोक की अवधि को एक और हफ्ते तक बढ़ा दिया था।


Leave a Reply

Required fields are marked *