139 करोड़ रुपए की लागत से सूरत में बनेगा बायोडायवर्सिटी पार्क

139 करोड़ रुपए की लागत से सूरत में बनेगा बायोडायवर्सिटी पार्क

गांधीनगर। केंद्र में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और राज्य में मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल की डबल इंजन सरकार आज राज्य के साढ़े छह करोड़ नागरिकों के सपने साकार कर रही है। मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल के नेतृत्व में गुजरात में विभिन्न विकास कार्यों को अमलीजामा पहनाया जा रहा है, तब राज्य के सूरत शहर में भी अनेक विकास कार्यों का लोकार्पण और शिलान्यास होने जा रहा है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी सितंबर महीने के अंत में गुजरात के दो दिनों के दौरे पर आ रहे हैं। 29 सितंबर को प्रधानमंत्री सूरत का दौरा करेंगे और इस दौरान वे 3472.54 करोड़ रुपए की लागत के विभिन्न विकास कार्यों का लोकार्पण और शिलान्यास करेंगे।इन विकास कार्यों में जलापूर्ति के 672 करोड़ रुपए के कार्य 890 करोड़ रुपए की ड्रेनेज परियोजनाएं 370 करोड़ रुपए के डायमंड रिसर्च एंड मर्केंटाइल ड्रीम सिटी के कार्य 139 करोड़ रुपए के खर्च से बायोडायवर्सिटी पार्क जैव विविधता उद्यान तथा पब्लिक इंफ्रास्ट्रक्चर, हेरिटेज रीस्टोरेशन, सिटी बस और बीआरटीएस इंफ्रास्ट्रक्चर इलेक्ट्रिक व्हीकल इंफ्रास्ट्रक्चर सहित केंद्र और राज्य सरकार की ओर से संयुक्त रूप से किए गए विकास कार्य शामिल हैं।सूरत के हीरा कारोबारियों के लिए शुरू किया गया महत्वाकांक्षी डायमंड रिसर्च एंड मर्केंटाइल ड्रीम सिटी प्रोजेक्ट जोरशोर से आगे बढ़ रहा है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ड्रीम सिटी के 103.40 करोड़ रुपए की लागत से तैयार हुए पहले चरण के रोड इंफ्रास्ट्रक्चर के कार्यों का लोकार्पण करेंगे। इसके साथ ही 9.53 करोड़ रुपए के खर्च से तैयार किए गए ड्रीम सिटी के मुख्य प्रवेश द्वार का भी लोकार्पण किया जाएगा। इस अवसर पर फेज-2 के कार्यों का शिलान्यास किया जाएगा। इस तरह प्रधानमंत्री ड्रीम सिटी के कुल 369.60 करोड़ रुपए के विकास कार्यों का लोकार्पण और शिलान्यास करेंगे। उल्लेखनीय है कि गुजरात सरकार ने सूरत में डायमंड ट्रेडिंग बिजनेस के तीव्र विकास के चलते पूरक के रूप में कमर्शियल और रेजीडेंशियल स्पेस की बढ़ती मांग को पूरा करने के विजन के साथ एक स्पेशल पर्पज व्हीकल एसपीवी का गठन किया जिसे डायमंड रिसर्च एंड मर्केंटाइल सिटी लिमिटेड ड्रीम सिटी लिमिटेड नाम दिया गया। यह ड्रीम सिटी अपने हितधारकों के लिए सर्विस प्रोवाइडर यानी सेवा प्रदाता के रूप में कार्य करेगी। अभी फेज-1 और फेज-2 से संबंधित 400 करोड़ रुपए के इंफ्रास्ट्रक्चर प्रोजेक्ट का कार्यान्वयन किया जा रहा है। बेसिक इंफ्रास्ट्रक्चर के मुख्य घटकों में सड़कें यूटिलिटी डक्ट्स स्ट्रीट लाइट जलापूर्ति सीवेज नेटवर्क बरसाती पानी के गटर आदि का समावेश होता है।139 करोड़ रुपए की लागत से बनेगा नया बायोडायवर्सिटी पार्क वनस्पति जीव-जंतु और पर्यावरण के संरक्षण के उद्देश्य से सूरत महानगर पालिका क्षेत्र में डॉ. हेडगेवार ब्रिज से भीमराड-बमरोली ब्रिज तक के हिस्से में कांकरा खाड़ी के नजदीक लगभग 87.50 हेक्टेयर खुली जगह पर बायोडायवर्सिटी पार्क बनाया जाएगा। इस बायोडायवर्सिटी पार्क में 13 किलोमीटर लंबी वॉकिंग ट्रेल बनाई जाएगी। यहां कुल 85 प्रजातियों की विभिन्न वनस्पतियां तथा लगभग 6 लाख पेड़-पौधे रोपित किए जाएंगे। 139 करोड़ रुपए की लागत से तैयार होने वाले इस बायोडायवर्सिटी पार्क में वॉकिंग ड्रेल और चिल्ड्रन प्ले एरिया जैसी सुविधाएं भी होंगी। यह स्वच्छ और हरा-भरा पार्क आगंतुकों के शारीरिक एवं मानसिक स्वास्य्  को बनाए रखने में सहायक होगा। इसके अलावा, पार्क के रखरखाव, उद्यानिकी तथा हाउसकीपिंग के लिए कर्मचारियों की आवश्यकता के चलते रोजगार के अवसर भी सृजित होंगे।


Leave a Reply

Required fields are marked *